Loading...
आर्ट आफ हैपीनेस प्रोग्राम के जरिये हम समाज में खुश रहने के लिये जागरूकता फैला रहे हैं। सफलता और तनाव मुकित की पहली सीढ़ी, मन में खुशी होना है। खुशहाली से समाज में अपराध, हिंसा, घृणा समाप्त होती है और व्यकित, दु:खों व तनावों से दूर होकर सफलता की ओर बढ़ता है।

वैसे तो 'आर्ट आफ हैपीनेस प्रोग्राम हर व्यकित के लिये लाभप्रद है, परन्तु विशेष स्थान, जैसे कि शैक्षिक संस्थान, प्रोफेशनल इन्सटीटयूट, कार्पोरेटस, बड़े व्यावसायिक प्रतिष्ठान, रिहैब्लीटेशन सेन्टर, नशामुक्त केन्द्रों, जेलों आदि में यह प्रोग्राम बहुत लाभप्रद सिद्ध हुआ है और समाज को एक दिशा देकर, सफलता, खुशी व अहिंसा की ओर प्रेरित करता है।

इस प्रोग्राम का उददेश्य सिर्फ समाज व देश की भलार्इ कर व्यकित को सफलता के शीर्ष पर पहुंचाना होता है। इच्छुक संस्थान व व्यकित लिखें व सम्पर्क करें।

हैपीनेस सोसाइटी
आर्ट आफ हैपीनेस

आर्ट आफ हैपीनेस प्रोग्राम से हजारों लोग फायदा उठा चुके हैं और तन, मन धन से लाभानिवत होकर खुशहाली की ओर बढ़ चुके हैं। इन प्रोग्रामों के जरिये शरीर, मन व आत्मा में जुड़ाव करके एक चेतना पैदा की जाती है, जिससे र्इश्वर भी हमारे साथ जुड़ जाता है और सफलता व खुशी की राह बड़ी आसान हो जाती है। 'आर्ट आफ हैपीनेस प्रोग्राम की सफलता का लाभ देश व विदेश के काफी लोग उठा चुके हैं और काफी लोग जुड़ना भी चाह रहे हैं।

इस प्रोग्राम की सफलता से प्रेरित होकर व लोगों के सुझावों और मांग पर 'आर्ट आफ हैपीनेस प्रोग्राम को आयोजित करने के साथ-साथ 'हैपीनेस सोसाइटी का गठन भी अन्तराष्ट्रीय स्तर पर किया जा रहा है। इस सोसाइटी का एकमात्र उददेश्य है- दु:खों व तनाव से मुकित, सत्य व अहिंसा से युक्त सवश्रेष्ठ समाज का निर्माण। इस सोसाइटी से आप जुड़ें और एक खुशहाल, सन्तुष्ट व उच्चकोटि का संगठन बनायें।

हैपीनेस सोसाइटी- सिद्धान्त
आर्ट आफ हैपीनेस

हैपीनेस सोसाइटी में किसी भी राष्ट्रीयता, धर्म व समुदाय के लोग जुड़ सकते हैं, यदि वे 'हैपीनेस सोसाइटी की प्रतिज्ञाओं को अपने आचरण में लाते हैं और लगातार सम्पर्क व संवाद करते हैं।

इस सोसाइटी से जुड़े व्यकितयों को अन्तराष्ट्रीय स्तर पर 1 वर्ष में एक बार संगठित होकर भाग लेना अनिवार्य है। स्थानीय स्तर पर माह में एक बार संगठित होकर, समाज की बेहतरी के लिये सभाएं आयोजित करनी होंगीं।

हैपीनेस सोसाइटी से जुड़े व्यकित जो प्रतिज्ञाएं लें उनसे वे कभी विमुख नहीं होंगे और जब वे इस सोसाइटी से अलग होना चाहते हैं तो उन्हें लिखित में राष्ट्रीय संयोजक को बताना होगा।

हैपीनेस सोसाइटी के सदस्यों को समाज में खुशी फैलानी है, सत्य व अहिंसा अपनानी है, घृणा व द्वेष से दूर रहना है।

हैपीनेस सोसाइटी से जुड़े व्यकितयों को सूर्य को केन्द्र बिन्दु मानकर प्रत्येक रविवार, सुबह सूर्योदय पर, सूर्य की आराधना करनी होगी और 'आर्ट आफ हैपीनेस सिम्बल के सामने ध्यान, प्राण ऊर्जा क्रिया (मेडीटेशन) करनी होगी।

हैपीनेस सोसाइटी- प्रतिज्ञाएँ
आर्ट आफ हैपीनेस

हैपीनेस सोसाइटी से जुडे़ व्यकित को स्वयं ज्यादातर मुस्कराना है और अपने इर्दगिर्द हर व्यकित को खुशी देकर, हंसने के लिये प्रेरित करना है, चाहे कितनी विपरीत परिसिथति हो।

दु:ख, तनाव, र्इष्र्या घृणा व अवसाद से दूर रहने का भरसक प्रयत्न करना है और ऐसा कोर्इ व्यकित दिखता है, तो उसे भी उस अवस्था से निकालना है।

हैपीनेस सोसाइटी से जुड़े व्यकित को जीवों पर दया करना है, विशेष तौर पर घरेलू पशुओं, जैसे गाय, कुत्ता, चिडि़या आदि पर विशेष दया रखनी होगी, उन्हें भोजन देने व रखरखाव करने की जिम्मेदारी लेनी होगी।

हैपीनेस सोसाइटी से जुड़े व्यकित को प्रोटीनयुक्त, सादे भोजन का प्रयोग करना होगा। गरिष्ठ भोजन, जिसमें घी, तेल, नमक, चीनी ज्यादा मात्रा में हो, उसे त्यागना होगा। समारोह आयोजनों का गरिष्ठ भोजन उसके लिये वर्जित है।

हैपीनेस सोसाइटी के व्यकित को प्रतिदिन एक घण्टे अपने शरीर को देना होगा। 5 किलोमीटर तेज चलना व व्यायाम करना अनिवार्य है।

हैपीनेस सोसाइटी का व्यकित कभी क्रोधित नहीं होगा, तेज आवाज में नहीं बोलेगा, छींटाकसी व उल्हाना शैली में बात नहीं करेगा।

हैपीनेस सोसाइटी के व्यकित के लिये धूम्रपान, गुटखा व तम्बाकू सेवन वर्जित है। सड़क पर या कहीं भी थूकना मना है।

हैपीनेस सोसाइटी से जुड़ा व्यकित न दहेज ले सकता है, न दहेज दे सकता है।

वह अपने सारे आयोजन बेहद साधारण तरीके से सम्पन्न करेगा।

हैपीनेस सोसाइटी का व्यकित, पुत्रों व पुत्रियों में भेदभाव नहीं करेगा। दोनों को समान रूप से शिक्षा देनी होगी। कहीं पर कन्या भ्रूण हत्या का पता लगते ही उसे कार्यवाही करनी होगी।

हैपीनेस सोसाइटी से जुड़े व्यकितयों को 'आर्ट आफ हैपीनेस का संदेश अपने-अपने स्थानों पर फैलाना होगा और अपनी गतिविधियां राष्ट्रीय संयोजक को बतानी होगी।

प्रतिज्ञाएं तोड़ने पर पश्चाताप
आर्ट आफ हैपीनेस

यूं तो 'हैपीनेस सोसाइटी से जुड़े लोग किसी भी प्रतिज्ञा को निभाने के लिये वचनबद्ध हैं, परन्तु फिर भी भूलवश यदि गलती होती है तो उसका पश्चाताप भी निर्धारित है, जो उन्हें सोसाइटी के संज्ञान में लाकर, अपने ही स्थान पर प्रायशिचत करके करना होगा, वह भी पूरी र्इमानदारी से।

हैपीनेस सोसाइटी से जुड़ा व्यकित यदि उपरोक्त में से कोर्इ भी प्रतिज्ञा तोड़ता है, तो बतौर प्रायशिचत उसे 'आर्ट आफ हैपीनेस गुरू से मिलकर, गलती कबूल करके, बताए गये प्रायश्चित को करना होगा।

हैपीनेस सोसाइटी से जुड़ा व्यकित यदि बार-बार गलती करता है, या लगातार धूम्रपान, या कोर्इ गंभीर अपराध करता है, तो उसकी सदस्यता रदद कर दी जायेगी और फिर उसे इस सोसाइटी से जुड़े रहने का कोर्इ अधिकार नहीं होगा।

सफलता प्रापित व इच्छापूर्ति के लिए आपको मिलेंगी ये वस्तुएं
हैपीनेस सोसाइटी
आर्ट आफ हैपीनेस

'हैपीनेस सोसाइटी का सदस्य बनने के बाद आप को एक 'हैपीनेस किट मूल्य चुका कर प्रदान की जायेगी। इस किट में- शामिल होगा, जो 4 हफ्तों की सामग्री होगी।

आपको क्या करना है?

पको रविवार, सुबह 7 बजे अपने घर के एकान्त कोने में, सूर्य की ओर मुख करके, आसान मुद्रा में कर बैठना होगा और अपने सामने 'आर्ट आफ हैपीनेस डिवाइन सिम्बल व 'दिव्य बक्सा रखना होगा। इस स्थान पर खिड़कियां खुली होनी चाहियें।

आर्ट आफ हैपीनेस के सूर्य के केन्द्र को देखते हुए ध्यान क्रिया करनी होगी होली बुक में लिखी ध्यान क्रिया का उच्चारण करना होगा और साथ ही 5 बार प्राण ऊर्जा क्रिया। इस दौरान ध्यान पूरी तरह सिम्बल पर केनिद्रत होना चाहिये।

त्पश्चात दिव्य पर्चे के सूर्य के अन्दर अपनी समस्या, तनाव, महत्वकांक्षा, सफलता आदि के लिये लिखकर, कागज को मोड़कर दिव्य बक्से में डालना होगा। तत्पश्चात दिव्य डायरी उठाकर पिछले 7 दिनों से संबंधित दिनचर्या पर संबंधित प्रश्नों का उत्तर लिखना होगा। फिर सारी चीजों को समेटकर रखने के बाद (जिसमें लगभग 20 मिनट का समय लगेगा) निम्न मोबाइल नम्बरों में से किसी एक पर एस.एम.एस. में ''क्मअ लिखकर भेजना होगा- मो0 न0- 9415309964 9415080360 9454410478

गातार 4 रविवारों को सुबह के समय यह क्रिया करके, समापित के बाद दिव्य बक्सा व डायरी को- ''देव- बी-15, सेक्टर- जे, अलीगंज, लखनऊ-226024 पर पोस्ट कोरियर द्वारा भेजना होगा।

यह प्रकि्रया, किसी भी व्यकित द्वारा अपनी समस्या के लिये लगातार एक साल तक दोहरायी जा सकती है, अन्यथा 6 महीने में एक बार या यदि वह चाहे तो हमेशा कर सकता है। इस प्रकि्रया से बड़ी से बड़ी समस्या, बड़े से बड़ा दु:ख दूर हो सकता है और आप सफल, सुखी व खुश हो सकते हैं, हमेशा के लिये।

किट एक माह की पैकिंग में ही उपलब्ध होगी। इसलिए लगातार इस्तेमाल के लिये एडवान्स में किट को मंगाकर रखें।



Verify

प्राण ऊर्जा क्रिया क्या है?

आसान मुद्रा में बैठें, आंखें 'आर्ट आफ हैपीनेस सिम्बल पर केनिद्रत करके, पूरी ताकत से सांस खींचें। सांस लेते वक्त सीने को अपनी बाहों की ओर फुलाएं और पेट को सिथर रखें। 30 सेकेण्ड तक सांस रोकें और फिर धीरे-धीरे सांस बाहर निकालें। सांस निकालते वक्त पेट को पीठ की ओर खींचें, पूरी ताकत से, ताकि फेफड़ों की पूरी हवा बाहर निकल जाय। 10 सेकेण्ड रिलैक्स करें और फिर यही प्रकि्रया 5 बार दोहराएं।

हैपीनेस सोसाइटी की सदस्यता

हैपीनेस सोसाइटी की सदस्यता 2 माध्यमों से ली जा सकती है- पहली इन्टरनेट के जरिये व दूसरी व्यकितगत रूप से। दूर-दराज के लोग यह सदस्यता इन्टरनेट के जरिये ही ले सकेंगे, परन्तु लखनऊ के 100 किलोमीटर की परिधि के लोग इसकी सदस्यता व्यकितगत रूप से स्वयं आकर लें तो बेहतर होगा। आजीवन या 5 वर्षीय सदस्यता के लिये निर्धारित फार्म भरकर फोटो समेत देना होगा। सदस्यता के लिये, मोबाइल, पत्राचार, एस.एम.एस. या इन्टरनेट के जरिये निम्न व्यकितयों से सम्पर्क करें-

राष्ट्रीय संयोजक, श्री वीरेन्द्र अरोड़ा, सी- 157, सेक्टर- ज,े अलीगंज, लखनऊ - 226024

(मो0 न0- 9415080360 एवं मेल- vdalko@rediffmail.com

श्री ऋषि कुमार श्रीवास्तव, 27469 दूसरा मार्ग, राज निकेतन, राजेन्द्र नगर, लखनऊ - 226004

(मो0 न0- 9454410478 एवं मेल- rishikumarsri@gmail.com

किट की कीमत

Rs. 700/- Inclusive of Postage Charges

50 $ Dollars Inclusive of Postage Charges

Click here Place Your Order for Kit

Order for Kit

Payment to

Payee / Account Holder Name: Rakshak Sewa Sansthan

Account Number: 411700 01 00052407

Bank: Punjab National Bank

RTGS / NEFT IFSC: PUNB0075800

Account Branch: MahaNagar, Lucknow, Uttar Pradesh

Cheques in Favour of "RAKSHAK SEWA SANSTHAN" Punjab National Bank, Mahanagar, Lucknow

SEND TO: Dr. R.K. Verma, B15, Sector J, Aliganj, Lucknow

सूर्य को साक्षी मानकर
आर्ट आफ हैपीनेस

मैनें आर्ट आफ हैपीनेस के अन्तर्गत हैपीनेस सोसाइटी की सक्रिय सदस्यता अपनायी हैं। मुझे खुशी, शान्ती व संतुषिट का संदेश समाज में हमेशा फैलाना है । मै हैपीनेस सोसाइटी की प्रतिज्ञाएं लेता हूँलेती हूँ। यदि मुझमें भूलवश कोर्इ गलती होती है तो मै एक प्रायशिचत करूँगाकरूँगी। मै अपने चारो ओर खुशी का सन्देश फैलाने के लिए प्रतिमाह कार्यक्रम करूँगाकरूँगी। कोर्इ भी सन्देह होने पर मै आर्ट आफ हैपीनेस गुरू और राष्ट्रीय संयोजक से सम्पर्क करूँंगाकरूँगी।